BBC Live
SCIENCE & TECH टाप न्यूज मध्यप्रदेष/छत्तीसगढ़ मुख्य पृष्ठ राज्य लाइफस्टाइल स्लाईडर

मंजर भोपाली को आया 36 लाख का बिजली बिल, लिखा- लॉकडाउन में सूख गई है कलम की स्याही, कैसे भरें?

मशहूर शायर मंजर भोपाली को मई महीने के लिए 36 लाख बिजली बिल आया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने दर्द को बयां किया है और सीएम शिवराज को टारगेट किया है। मंजर भोपाली ने लिखा है कि मुख्यमंत्री जी, कोरोना काल में कलम की स्याही सूख चुकी है। इसे कैसे भरें?

हाइलाइट्स:

  • मशहूर शायर मंजर भोपाली को आया 36 लाख 86 हजार रुपये का बिजली बिल
  • भोपाल के वीआईपी रोड पर है मंजर भोपाली का घर
  • सोशल मीडिया पर उन्होंने बयां किया है दर्द
  • सीएम शिवराज पर भी मंजर भोपाली ने साधा है निशाना

भोपाल
मशहूर शायर मंजर भोपाली को एमपी में बिजली विभाग ने बड़ा झटका दिया है। एमपी सेंट्रल डिस्कॉम ने उन्हें जून महीने में 36 लाख रुपये का बिजली बिल थमाया है। इसके बाद उन्होंने मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत कंपनी से संपर्क किया। कंपनी की तरफ से उन्हें आश्वसत किया गया है कि बिलिंग सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी है, इसे जल्द ठीक कर लिया जाएगा।

Advertisement

दरअसल, भोपाल कोहेफिजा इलाके में मशहूर शायर मंजर भोपाली रहते हैं। यह उस वक्त हैरान रह गए जब इनके घर पर 36 लाख 86 हजार 660 रुपये का बिजली बिल आया। सबसे पहले इन्हें रविवार की सुबह मोबाइल पर टेक्सट मैसेज आया था। मैसेज में मंजर भोपाल अमाउंट पढ़कर हैरान रह गए थे। बिल जमा करने की अंतिम तारीख उसमें 21 जून लिखी हुई थी। इसके बाद उन्होंने डिस्कॉम के पोर्टल पर जाकर ड्यूज अमाउंट को चेक किया तो वहां भी उतना ही दिखा। इसके बाद उन्होंने शिकायत की है। रविवार की शाम तक उन्हें सुधार किया हुआ बिल नहीं मिला है।

सोशल मीडिया पर किया पोस्ट
36 लाख बिजली बिल आने पर मंजर भोपाली ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया है। उन्होंने लिखा है कि एमपी गजब है, सब से अजब है। इस नारे की सच्चाई ये ₹ 36,86,660 का मेरे घर का एक महीने (मई) का इलेक्ट्रिक बिल दर्शाता है। माननीय मुख्य मंत्री जी इस तरह का मजाक कोरोना काल में एक शायर के लिए ठीक नहीं है। लॉकडाउन और कोविड की वजह से शायर के कलम की स्याही तक सूख चुकी है, ऐसे में ये 36 लाख रुपए कहां से भरे जाएं? ये बिल रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचारी का खुला दावत नामा है।

Advertisement

दरअसल, मंजर भोपाली पिछले साल कोरोना से संक्रमित हुए थे। इसके बाद से वह कम ही निकलते हैं, कुछ महीनों से उन्हें पब्लिक के बीच कोई कार्यक्रम में नहीं देखा गया है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि कोरोना काल में लोगों के बिजली बिल और प्रॉपर्टी टैक्स माफ होने चाहिए। यहां फर्जी बिल भेजे जा रहे हैं। 

Advertisement

Related posts

छत्तीसगढ़ में कोरोना महामारी की भयावह स्थिति के लिए प्रदेश सरकार जिम्मेदार- विजय बघेल

BBC Live

पुरुष नसबंदी के बाद पुरुष को नहीं होती किसी भी प्रकार की कमजोरी…

BBC Live

मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता लोकवाणी की 13 वीं कड़ी का प्रसारण 13 दिसंबर को…

BBC Live

एक टिप्पणी छोड़ें

Translate »