BBC Live
SCIENCE & TECH टाप न्यूज मुख्य पृष्ठ राज्य लाइफस्टाइल स्लाईडर

कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों की सटीक रिपोर्ट दी जानी चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट

अब्दुल सलाम कादरी-एडीटर इन चीफ

मद्रास हाईकोर्ट ने कहा कि देशभर से ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि कोरोना से होने वाली सभी मौतों के आंकड़ों को ठीक से दर्ज नहीं किया जा रहा है. अदालत ने कहा कि यह वास्तव में महामारी के पैमाने को समझने के प्रयास को बाधित कर सकता है और परिवारों को उस राहत की मांग करने से भी वंचित सकता है, जिसके वे हक़दार हैं.

Advertisement

नई दिल्लीः मद्रास हाईकोर्ट ने बीते शुक्रवार को कहा कि देशभर से ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि कोरोना से होने वाली सभी मौतों के आंकड़ों को ठीक से दर्ज नहीं किया जा रहा है.

अदालत ने कहा कि यह वास्तव में महामारी के पैमाने को समझने के प्रयास को बाधित कर सकता है और परिवारों को उस राहत की मांग करने से भी वंचित सकता है, जिसके वे हक़दार हैं.

Advertisement

लाइव लॉ की रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी और जस्टिस सेंथिलकुमार राममूर्ति की खंडपीठ ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की. इसमें कोविड-19 के सभी मामलों में अंतरराष्ट्रीय मानकों सहित आईसीएमआर (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद) के दिशानिर्देशों और अन्य प्रासंगिक मानकों के अनुसार मृत्यु का कारण संबंधित प्रमाण पत्र/आधिकारिक दस्तावेज में ठीक से और सही ढंग से उल्लिखित हो, इसकी मांग की गई है.

साथ ही यह सुनिश्चित करने के लिए तमिलनाडु सरकार को एक प्रभावी नीति लागू करने के लिए निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है. याचिका में कहा गया है कि इससे परिवार बिना किसी बाधा के सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे.

Advertisement

अदालत ने कहा, ‘जहां तक तमिलनाडु का सवाल है, किसी शख्स की मृत्यु को तब तक कोविड-19 के कारण हुई मौत के तौर पर दर्ज नहीं किया जाता जब तक कि कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट जारी नहीं की जाती.’

अदालत ने कहा कि कोविड-19 की वजह से होने वाली मौतों को सही तरीके से दर्ज करने से भविष्य में इस तरह की महामारी से निपटने के लिए किए जा रहे अध्ययनों में मदद मिलेगी. कुछ मामलों में चिंता यह है कि जिस व्यक्ति की मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई है, उसके परिवार को तब तक राहत नहीं मिलेगी, जब तक उसके मृत्यु प्रमाण-पत्र में मौत का कारण कोरोना नहीं लिखा गया होगा.

Advertisement

पीठ ने कहा, ‘यह सामान्य है कि किसी शख्स को हुई बड़ी बीमारी की वजह से दिल का दौरा पड़ सकता है और इससे उसकी मृत्यु हो सकती है. हालांकि ऐसे मामले में मौत का कारण उचित रूप से सिर्फ दिल का दौरा नहीं माना जा सकता है, बल्कि दिल पर दौरा होने के अंतर्निहित कारण को वास्तविक कारण माना जाना चाहिए. तो क्या यह कोविड-19 से होने वाली मौतों के मामले में किया जाना चाहिए, भले ही वह व्यक्ति कई बीमारियों से पीड़ित हो.’

अदालत का कहना है कि यदि आवश्यक हो तो मौत के कारणों का पता लगाने के लिए एक विशेष टीम द्वारा उचित अध्ययन किया जाना चाहिए.

Advertisement

पीठ ने कहा, ‘उचित तो यह होगा कि जरूरत पड़ने पर संशोधित कर मृत्यु प्रमाण-पत्र को पहले ही जारी कर दिया जाए.’

अदालत ने कहा कि वह 28 जून को इस बारे में अधिक विस्तार से सुनवाई करेंगे. उन्होंने राज्य सरकार से 28 जून तक राज्य में कोविड-19 मौतों पर एक प्रारंभिक रिपोर्ट पेश करने को कहा है.

Advertisement

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों में कोरोना की वजह से देश में हुई मौतों की संख्या 3.76 लाख से कुछ अधिक बताई गई है, जबकि विशेषज्ञों का कहना है कि मृतकों की वास्तिवक संख्या इससे चार गुना अधिक हो सकती है, क्योंकि आधिकारिक आंकड़ों में बड़े पैमाने पर कोरोना मौतों के आंकड़े दर्ज नहीं किए गए हैं.

Advertisement

Related posts

Ganderbal achieves 100 percent vaccination of population over 45 years age

BBC Live

गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष ने विकास कार्यों का किया निरीक्षण…

BBC Live

गरियाबंद पुलिस की बड़ी कार्यवाही …

BBC Live

एक टिप्पणी छोड़ें

Translate »