BBC Live
कृषि और पर्यावरण टाप न्यूज मुख्य पृष्ठ लाइफस्टाइल वर्ल्ड न्यूज स्लाईडर

विश्व में हर एक मिनट में भुखमरी से 11 लोगों की मौत होती है: ऑक्सफैम

अब्दुल सलाम कादरी-एडीटर इन चीफ

गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाले संगठन ऑक्सफैम ने एक रिपोर्ट में कहा कि भुखमरी के कारण मरने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की संख्या से अधिक हो गई है. बीते एक साल में पूरी दुनिया में अकाल जैसे हालात का सामने करने वाले लोगों की संख्या छह गुना बढ़ी है.

Advertisement

काहिरा: गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाले संगठन ‘ऑक्सफैम’ ने कहा है कि दुनियाभर में भुखमरी के कारण हर एक मिनट में 11 लोगों की मौत होती है और बीते एक साल में पूरी दुनिया में अकाल जैसे हालात का सामने करने वाले लोगों की संख्या छह गुना बढ़ गई है.

ऑक्सफैम ने ‘द हंगर वायरस मल्टीप्लाइज’ नाम की रिपोर्ट में कहा कि भुखमरी के कारण मरने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की संख्या से अधिक हो गई है. कोविड-19 के कारण दुनिया में हर एक मिनट में करीब सात लोगों की जान जाती है.

Advertisement

ऑक्सफैम अमेरिका के अध्यक्ष एवं सीईओ एब्बी मैक्समैन ने कहा, ‘आंकड़े हैरान करने वाले हैं. लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि ये आंकड़े उन लोगों से बने हैं जो अकल्पनीय पीड़ा से गुजर रहे हैं.’

रिपोर्ट में कहा गया कि दुनिया में करीब 15.5 करोड़ लोग खाद्य असुरक्षा के भीषण संकट का सामना कर रहे हैं और यह आंकड़ा पिछले वर्ष के आंकड़ों की तुलना में दो करोड़ अधिक है. इनमें से करीब दो तिहाई लोग भुखमरी के शिकार हैं और इसकी वजह है उनके देश में चल रहा सैन्य संघर्ष.

Advertisement

मैक्समैन ने कहा, ‘कोविड-19 के आर्थिक दुष्प्रभाव और बेरहम संघर्षों, विकट होते जलवायु संकट ने 5,20,000 से अधिक लोगों को भुखमरी की कगार पर पहुंचा दिया है. वैश्विक महामारी से मुकाबला करने के बजाए, परस्पर विरोधी धड़े एक दूसरे से लड़ रहे हैं जिसका असर अंतत: उन लाखों लोगों पर पड़ता है जो पहले ही मौसम संबंधी आपदाओं और आर्थिक झटकों से बेहाल हैं.’

ऑक्सफैम ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बावजूद विश्व भर में सेनाओं पर होने वाला खर्च महामारी काल में 51 अरब डॉलर बढ़ गया, यह राशि भुखमरी को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र को जितने धन की जरूरत है उसके मुकाबले कम से कम छह गुना ज्यादा है.

Advertisement

इस रिपोर्ट में जिन देशों को ‘भुखमरी से सर्वाधिक प्रभावित’ की सूची में रखा है वे देश अफगानिस्तान, इथियोपिया, दक्षिण सूडान, सीरिया और यमन हैं. इन सभी देशों में संघर्ष के हालात हैं.

मैक्समैन ने कहा, ‘आम नागरिकों को भोजन पानी से वंचित रखकर और उन तक मानवीय राहत नहीं पहुंचने देकर भुखमरी को युद्ध के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. बाजारों पर बम बरसाए जा रहे हों, फसलों और मवेशियों को खत्म किया जा रहा हो तो लोग सुरक्षित नहीं रह सकते और न ही भोजन तलाश सकते हैं.’

Advertisement

संगठन ने सरकारों से अनुरोध किया कि वे संघर्षों को रोकें अन्यथा भुखमरी के हालात विनाशकारी हो जाएंगे.

वहीं, संयुक्त राष्ट्र एजेंसी खाद्य कार्यक्रम खाद्य ने गुरुवार को कहा है कि दुनिया भर में लगभग 27 करोड़ लोगों गंभीर खाद्य असुरक्षा का सामना कर रहे हैं या वो भुखमरी के उच्च जोखिम में हैं. ये वर्ष 2020 की तुलना में 40 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी है.

Advertisement

बता दें कि जनवरी में संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों ने आगाह किया था कि कोविड-19 के कारण लोगों की नौकरियां जाने और खाद्य पदार्थों की कीमतें बढ़ने से एशिया-प्रशांत क्षेत्र में 35 करोड़ से अधिक लोग भुखमरी के शिकार हो सकते हैं.

रिपोर्ट में कहा गया था कि दुनिया में 68.8 करोड़ लोग कुपोषण के शिकार हैं और इनमें से आधे से ज्यादा लोग एशिया में हैं. सबसे ज्यादा लोग अफगानिस्तान में हैं, जहां प्रत्येक 10 में से चार लोग कुपोषित हैं.

Advertisement

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ अब्दुल सलाम कादरी-एडीटर इन चीफ  )

Advertisement

Related posts

बांगो बांध लबालब, आज दोपहर बाद खुल सकते हैं बांध के गेट  निचले क्षेत्रों से सुरक्षित स्थान पर जाने की सूचना जारी, जलस्तर लगातार बढ़ रहा

BBC Live

रात्रि कालीन टेनिस बॉल क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच

BBC Live

शासकीय कर्मचारियों को मिल रहा प्रवासी मजदूर का दर्जा…

BBC Live

एक टिप्पणी छोड़ें

Translate »