BBC Live
टाप न्यूज मुख्य पृष्ठ राज्य वर्ल्ड न्यूज स्लाईडर

भारतीय नौसेना का युद्धपोत ‘विशाखापट्टनम’ सेवा में शामिल, रक्षा मंत्री ने चीन पर साधा निशाना

बीबीसी लाईव 

कोझिकोड (केरल), 21 नवंबर /भारत ने भले ही अगले साल होने वाले फीफा विश्व कप के लिए क्वालीफाई नहीं किया हो, लेकिन खेल के इस बड़े कार्यक्रम के दौरान इसका प्रतिनिधित्व यहां बेपोर में बनी ‘उरु’ नामक पारंपरिक लकड़ी की नौका की प्रतिकृति द्वारा किया जाएगा, जिसका इस्तेमाल प्राचीन काल में मेसोपोटामिया के साथ व्यापार के लिए किया जाता था।

पूरी तरह लकड़ी और नारियल की जटा से बनी 27 फुट लंबी नौका को चालियाम स्थित हाजी पीआई अहमद कोया एंड कंपनी द्वारा बेपोर में ‘ऑर्डर’ पर बनाया जा रहा है, जो ऐतिहासिक रूप से उरु बनाने के लिए प्रसिद्ध है। इसे कतर में आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय नौका महोत्सव में प्रदर्शित किया जाएगा जो अगले साल, फीफा विश्व कप के साथ-साथ आयोजित होगा।

महीने भर चलने वाला विशाल खेल कार्यक्रम पहली बार पश्चिम एशिया में हो रहा है।

सात फुट चौड़ी और छह फुट लंबी पारंपरिक व्यापारिक पोत की प्रतिकृति, को प्राचीन काल के दौरान बनाई जाने वाली नौका की ही तरह बनाया जा रहा है – जब लोहे की कीलों और धातुओं का उपयोग जहाज निर्माण के लिए नहीं किया जाता था – लकड़ी की कीलों और नारियल जटाओं का उपयोग करके लकड़ी के तख्तों को बांधा जाता था।

कंपनी के प्रबंध निदेशक हमद हाशिम ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, “चार बढ़ई और अन्य कुशल कारीगर इस नौका के काम में लगाए गए हैं। लोहे की कीलों का उपयोग नहीं किया गया है, केवल लकड़ी की कीलों का उपयोग किया गया है जैसा कि 11 वीं और 12 वीं शताब्दी के दौरान हुआ करता था। इस काम में 2,500 टांके और 5,000 छिद्र और महीनों का लंबा प्रयास शामिल है।” साथ ही बताया कि अंतिम रूप देने के अलावा नौका का सारा काम हो गया है।

11वीं सदी की नौका की प्रतिकृति को अगले साल जनवरी में एक शिपिंग कंटेनर में कतर ले जाया जाएगा।

Related posts

शुभेंदु अधिकारी को मोदी की बैठक में बुलाने पर भड़कीं ममता, बोलीं- मेरा जाना मुश्किल

BBC Live

छत्तीसगढ़ के पुलिसकर्मियों के लिए खुशखबरी: 85 निरीक्षक बनेंगे डीएसपी, जल्द जारी होगी पदोन्नति सूची

BBC Live

BBC NEWS : पंजाब में कांग्रेस के कैप्टन बने रहेंगे सिद्धू, राहुल से मुलाकात के बाद वापस लिया इस्तीफा

BBC Live

एक टिप्पणी छोड़ें

Translate »
error: Content is protected !!