16.2 C
New York
May 30, 2024
BBC LIVE
अंतर्राष्ट्रीय

राम मंदिर उद्घाटन के बाद अयोध्या में बोले पीएम मोदी…’सदियों की प्रतीक्षा के बाद, हमारे राम आ गए हैं…’,

PM Modi address to the nation after Ramlala Pran Pratistha: अयोध्या में भव्य राम मंदिर के उद्घाटन और मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि सदियों की प्रतीक्षा के बाद हमारे राम आ गए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि कितना कुछ कहने को है, लेकिन कंठ अवरूद्ध है, शरीर स्पंदित है, चित अभी भी उस पल में जी रहा है. हमारे रामलला अब टेंट में नहीं रहेंगे. हमारे रामलला अब दिव्य मंदिर में रहेंगे. मेरा पक्का विश्वास है, आपार श्रद्धा है, जो घटित हुआ है, उसकी अनुभूति देश और विश्व के कोने-कोने में रामभक्तों को हो रही होगी.

पीएम मोदी ने कहा कि 22 जनवरी का ये सूरज ये एक अद्भुत आभा लेकर आया है, ये कैलेंडर पर लिखी एक तारीख नहीं, ये एक नए कालच्रक का उद्गम है. राममंदिर के भूमिपूजन के बाद से प्रतिदिन पूरे देश में उमंग और उत्साह बढ़ता ही जा रहा था. आज हमें सदियों के उस धैर्य की धरोहर मिली है. आज हमें श्रीराम का मंदिर मिला है. गुलामी की मानसिकता को तोड़कर उठा खड़ा राष्ट्र अतीत के दंश से हौसला लेता हुआ राष्ट्र ऐसे ही नवइतिहास का सृजन करता है.

Image

आज से 1000 साल बाद भी लोग आज के इस तारीख और पल की चर्चा करेंगे. ये कितनी बड़ी राम की कृपा है कि हम इस पल को जी रहे हैं. हम इस पल को साक्षात देख रहे हैं. ये समय सामान्य समय नहीं है. साथियों, हम सब जानते हैं कि जहां राम का काम होता है, वहां पवनपुत्र हनुमान होते हैं. इसलिए रामभक्त हनुमान को मैं प्रणाम करता हूं, माता जानकी, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न को प्रणाम करता हूं. सरयू और अयोध्या को प्रणाम करता हूं.

भगवान श्रीराम से मांगी क्षमा

पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज प्रभु श्रीराम से क्षमा याचना भी करता हूं. हमारे तपस्या में कुछ तो कमी रह गई होगी कि हम इतनी सदियों तक ये कार्य कर नहीं पाए. आज वो कमी पूरी हुई है. हमें विश्वास है कि श्रीराम हमें अवश्य क्षमा करेंगे. हमारी कई कई पीढियों ने वियोग सहा है. भारत के तो संविधान में, उसकी पहली प्रति में भगवान राम विराजमान है. संविधान के अस्तित्व में आने के बाद भी भगवान राम के अस्तित्व को लेकर लड़ाई लड़ी गई. मैं आभार व्यक्त करुंगा भारत की न्यायपालिका का, कि उन्होंने न्याय की लाज रख ली. न्याय के पर्याय राम का मंदिर भी न्याय के आधार पर ही बना है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अपने 11 दिन के व्रत-अनुष्ठान के दौरान मैंने उन स्थानों का चरणस्पर्श करने का प्रयास किया, जहां प्रभु राम के चरण पड़े थे. मेरा सौभाग्य है कि इसी पुनीत पवित्र भाव के साथ मुझे सागर से सरयू तक की यात्रा का अवसर मिला. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज गांव-गांव में एक साथ कीर्तन, संकीर्तन हो रहे हैं. आज मंदिरों में उत्सव हो रहे हैं, स्वच्छता अभियान चलाए जा रहे हैं, पूरा देश आज दीपावली मना रहा है, आज शाम घर-घर राम ज्योति प्रज्वलित करने की तैयारी है. प्रभु राम तो भारत की आत्मा के कण-कण से जुड़े हुए हैं. राम भारतवासियों के अंतर्मन में विराजे हुए हैं. हम भारत में कहीं भी किसी की अंतरात्मा को छुएंगे तो इस एकत्व की अनुभूति होगी और यही भाव सब जगह मिलेगा.

Image

पीएम बोले- हर युग में लोगों ने राम को जिया है

पीएम मोदी ने कहा कि हर युग में लोगों ने राम को जिया है. हर युग में लोगों ने अपने-अपने शब्दों में, अपनी-अपनी तरह से राम को अभिव्यक्त किया है. ये रामरस जीवन प्रवाह की तरह निरंतर बहता रहता है. आज अयोध्या में सिर्फ रामलला की प्राण प्रतिष्ठा नहीं है. बल्कि राम के रूप में भारतीय संकृति के प्रतीक और मानवीय मूल्यों की भी प्राण प्रतिष्ठा है. इन मूल्यों की आवश्यकता पूरे विश्व है. राम भारत की चेतना है. राम भारत का चिंतन है. राम प्रवाह है. राम प्रभाव भी है. उन्होंने कहा कि यही समय है… सही समय है. हमें एक हजार साल की नींव रखनी है.

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने कहा कि देश का निर्माण अहं से ऊपर वयम् के लिए होना चाहिए. राष्ट्र के लिए अपने जीवन का पल-पल लगा देंगे. शपथ लीजिए, शरीर का कण-कण देश के निर्माण को समर्पित कर देंगे. प्राचीनकाल से भारत के हर कोने के लोग रामरस का आचमन करते रहे हैं. राम कथा असीम है और रामायण भी अनंत है. राम के आदर्श, मूल्य और शिक्षाएं सब जगह एक समान है. उन्होंने कहा कि आज इस ऐतिहासिक समय में देश उन व्यक्तित्वों को भी याद कर रहा है, जिनके कार्य और समर्पण की वजह से आज हम ये शुभ दिन देख रहे हैं. राम के इस काम में कितने ही लोगों ने त्याग और तपस्या की पराकाष्ठा करके दिखाई है. उन अनगिनत रामभक्तों के, उन अनगिनत कारसेवकों के और उन अनगिनत संत-महात्माओं के हम सब ऋणी हैं. आज का ये अवसर उत्सव का क्षण तो है ही, लेकिन इसके साथ ही ये क्षण भारतीय समाज की परिपक्वता के बोध का भी क्षण है। हमारे लिए ये अवसर सिर्फ विजय का नहीं, बल्कि विनय का भी है.

Image

इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर का उद्घाटन किया और मंदिर के गर्भगृह में रामलला की मूर्ति को प्राण प्रतिष्ठित किया. इसके साथ ही 500 वर्षों का राम मंदिर का इंतजार खत्म हो गया. भव्य उद्घाटन के साथ अयोध्या में ही नहीं, बल्कि देशभर में राम मंदिर के उद्घाटन और प्राण प्रतिष्ठा की धूम मची है. देशभर में लोगों ने अपने घरों, मंदिरों और सार्वजनिक स्थानों को सजाया है. राम मंदिर उद्घाटन में देश के उद्योगपतियों, बॉलीवुड कलाकारों, राजनेताओं, साधु-संतों समेत भारत की नामी हस्तियों समेत करीब 8000 लोगों ने हिस्सा लिया.

गर्भगृह से निकलकर पीएम मोदी ने मेहमानों का किया अभिवादन

प्रधानमंत्री नरेंद्र ने राम मंदिर के गर्भगृह से निकलकर मंदिर परिसर में मौजूद सभी मेहमानों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया. इससे पहले गर्भगृह में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद पीएम मोदी ने विधिवत रूप से पूजा अर्चना की. इसके साथ ही पीएम मोदी ने भगवान श्रीराम की पहली आरती उतारी है. इस दौरान उनके साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत और सीएम योगी आदित्यनाथ मौजूद रहे. पूजा संपन्न होने पर पीएम मोदी ने रामलला को दंडवत प्रणाम किया.

बता दें कि पीएम मोदी जब रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए जब गर्भगृह में जा रहे थे, तब मंदिर परिसर शंखनाद की ध्वनि की गूंज उठा. बता दें कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आम से लेकर खास तक शामिल हुए. रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरपर्सन मुकेश अंबानी, रिलायंस फाउंडेशन की संस्थापक और चेयरपर्सन नीता अंबानी राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए अयोध्या राम जन्मभूमि पहुंचीं. नीता अंबानी ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है. वहीं, मुकेश अंबानी ने कहा कि आज भगवान राम आ रहे हैं, 22 जनवरी को पूरे देश के लिए राम दिवाली होगी.

Related posts

DIG SKR flagged off Bharat Darshan Tour of group of students belonging to District Anantnag.

bbc_live

Daily Horoscope : अपने राशिफल से जानें आपके लिए कैसा रहेगा आज का दिन शुक्रवार

bbc_live

नवरात्रि व्रत के दौरान पिएं ये हेल्दी ड्रिंक्स, नहीं महसूस होगी कमजोरी

bbc_live

Leave a Comment

error: Content is protected !!