6.5 C
New York
April 25, 2024
BBC LIVE
राष्ट्रीय

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न, PM मोदी बोले – वो समाजिक न्याय के पुरोधा

नई दिल्ली। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न (मरणोपरांत) से सम्मानित करने का निर्णय लिया है। पिछड़े वर्ग से आने वाले कर्पूरी ठाकुर बिहार के 11वें मुख्यमंत्री थे। वह दो बार मुख्यमंत्री रह चुके थे। वे बिहार के पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे।

कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने ‘X’ पर लिखा, “मुझे इस बात की बहुत प्रसन्नता हो रही है कि भारत सरकार ने समाजिक न्याय के पुरोधा महान जननायक कर्पूरी ठाकुर जी को भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

उन्होंने आगे लिखा “उनकी जन्म-शताब्दी के अवसर पर यह निर्णय देशवासियों को गौरवान्वित करने वाला है। पिछड़ों और वंचितों के उत्थान के लिए कर्पूरी जी की अटूट प्रतिबद्धता और दूरदर्शी नेतृत्व ने भारत के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य पर अमिट छाप छोड़ी है। यह भारत रत्न न केवल उनके अतुलनीय योगदान का विनम्र सम्मान है, बल्कि इससे समाज में समरसता को और बढ़ावा मिलेगा।”

लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी का बड़ा दांव

बता दें कि, लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी युद्धस्तर पर काम कर रही है। बिहार में लोकसभा की सभी 40 सीटों पर बीजेपी की नजर है। ऐसे में बिहार में पहली बार आरक्षण लागू कर पिछड़े वर्ग को मुख्यधारा में जोड़ने वाले मुख्यमंत्री को भारत रत्न देकर बीजेपी ने राज्य की बड़ी आबादी को साधने का काम किया है।

कौन थे कर्पूरी ठाकुर?

कर्पूरी ठाकुर पिछड़ी मानी जाने वाली नाई बिरादरी से आते थे। वह बिहार के पिछड़े वर्ग से आने वाले दूसरे मुख्यमंत्री थे। वह पहले 1970 में बिहार के मुख्यमंत्री बने थे और सोशलिस्ट पार्टी से सम्बन्ध रखते थे। वह वर्ष 1977 में देश से आपातकाल हटने के बाद भी बिहार के मुख्यमंत्री बने।

कर्पूरी ठाकुर ने मुख्यमंत्री रहते हुए बिहार में आरक्षण लागू किया था जिसमें 12 प्रतिशत आरक्षण अति पिछड़ों और 8 प्रतिशत आरक्षण पिछड़ों के लिए दिया गया था। इसके बाद बिहार में सत्ता को लेकर मचे बवाल के कारण उनका मुख्यमंत्री पद चला गया था।

बिहार के मुख्यमंत्री रहने से पहले वह शिक्षा मंत्री भी रहे थे। इस दौरान उन्होंने एक अहम निर्णय लेते हुए कक्षा 10 तक अंग्रेजी की शिक्षा की अनिवार्यता हटा दी थी। इसके पीछे उनकी सोच थी कि इससे बच्चों की शिक्षा में बाधा पड़ती है।

1924 में जन्मे कर्पूरी ठाकुर स्वतंत्रता सेनानी भी थे। उन्होंने सक्रिय तौर पर महात्मा गाँधी द्वारा चलाए गए ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ में भाग लिया था। उन्हें 26 महीने की जेल अंग्रेजी राज का विरोध करने के कारण काटनी पड़ी थी। वह 1952 से ही बिहार विधानसभा के सदस्य बन गए थे।

Related posts

JEE Main Exam Result: कुल 23 उम्मीदवारों ने हासिल किए पूरे 100 नंबर, पहली बार विदेश में भी आयोजित हुई परीक्षा

bbc_live

Wednesday Horoscope : आज बेहद संभलकर रहें मिथुन और सिंह समेत इन 6 राशियों के लोग, आर्थिक नुकसान के हैं योग

bbc_live

आरक्षण पर सियासी लड़ाई : नेहरू के बहाने पीएम मोदी का राहुल पर निशाना, कहा- कांग्रेस जन्मजात आरक्षण विरोधी

bbc_live

Leave a Comment

error: Content is protected !!